रिटायर्ड शिक्षक की ट्रेन की चपेट में आने से दर्दनाक मौत

बक्सर अप टू डेट न्यूज़/डुमरांव :- गुरुवार की शाम दानापुर मंडल के डुमरांव स्टेशन के पश्चिमी गुमटी से करीब दो किलोमीटर पश्चिम किसी ट्रेन की चपेट में आने से 74 वर्षीय एक रिटायर्ड शिक्षक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई । यह घटना उपकारी ब्रह्म स्थान के समीप पोल संख्या 646/30-32 के बीच डाउन लाइन की है|

new abloom services buxar
विज्ञापन

मृत रिटायर्ड शिक्षक की पहचान उनके पास से मिली डायरी के आधार पर गर्जन सिंह के रूप में हुई । जो रोहतास जिले के दावथ थानांतर्गत मलियाबाग के रहने वाले थे । जिनका पैतृक गांव बक्सर जिले के नावानगर थानांतर्गत चनवथ है तथा वे स्व. हीरा महतो के पुत्र थे । स्टेशन मास्टर से प्राप्त मेमो के अनुसार यह घटना अपराह्न लगभग 03:15 बजे की है ।

घटना की सूचना मिलते ही जीआरपी पोस्ट प्रभारी सुनील कुमार सिंह व आरपीएफ पोस्ट प्रभारी रामायण यादव के साथ रेल यात्री कल्याण समिति डुमरांव के अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह घटनास्थल पर पहुंचे तथा काफी मशक्कत के बाद मृतक की पहचान की और इस घटना के बारे में मृतक के परिजनों को सूचित किया । इस दुःखद घटना की सूचना मिलते ही रिटायर्ड मृत शिक्षक के परिजनों के बीच मातम छा गया, तथा वे सूचना के बाद तत्काल बक्सर के लिए रवाना हो गए । वहीं शव के शिनाख्त होने के बाद जीआरपी द्वारा उसे पोस्टमार्टम के लिए बक्सर भेज दिया गया ।

पोस्टमार्टम के बाद शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया

इस घटना की पुष्टि करते हुए रेल थानाध्यक्ष रामाशीष प्रसाद ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया जाएगा । विदित हो कि रिटायर्ड शिक्षक गर्जन सिंह डुमरांव प्रखंड के नाजीरगंज कोरानसराय स्थित प्राथमिक विद्यालय से अपने 33 वर्ष की सेवा के बाद 2007 में सेवानिवृत्त हुए थे । मृत शिक्षक अपने पीछे पत्नी शांति देवी, 2 पुत्र अखिलेश सिंह, चंदन सिंह तथा 3 पुत्रियां सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं ।

रेल यात्री कल्याण समिति डुमरांव के अध्यक्ष ने जताया गहरी शोक

असामयिक निधन पर रेल यात्री कल्याण समिति डुमरांव के अध्यक्ष सह दानापुर मंडल रेल यात्री कल्याण समिति के संयोजक राजीव रंजन सिंह उर्फ रवि सिंह ने गहरा शोक जताया और कहा उनकी विद्वता और ज्ञान की की कहानी उनके पास से मिली पॉकेट डायरी बयां कर रही थी ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button