बक्सर जिला के स्थापना दिवस पर खास

ads buxar

17 मार्च 1991 ई. को बक्सर जिला की स्थापना हुई थी. बिहार का द्वार के रूप में बक्सर को जाना जाता है.आइये जाने बक्सर जिला के स्थापना दिवस पर कुछ खास बक्सर के बारे में |

बक्सर जिला के स्थापना दिवस पर खास

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- आज ही के दिन यानी 17 मार्च 1991 ई. को बक्सर जिला की स्थापना हुई थी. बिहार का द्वार के रूप में बक्सर को जाना जाता है.

यह जिला पहले भोजपुर जिला के अंतर्गत हुआ करता था. लेकिन स्थानीय लोगों ने जिला का दर्जा दिलाने के लिए आंदोलन शुरू किया. 11 वर्षों के लंबे आंदोलन के बाद बक्सरवासियों ने बक्सर को अनुमंडल के बाद जिला बनाने में सफलता हासिल की. वैसे तो इस पूरे आंदोलन में सैकड़ों लोग शामिल हुए, जिसमें बुद्धिजीवी, समाजसेवी, व्यवसायी, श्रमिक, किसान, साहित्यकार, रंगकर्मी, राजनीतिज्ञ, पत्रकार और छात्र-छात्राएं शामिल थे. आज बक्सर जिला 30वां वर्ष पूरा कर लिया |

17 मार्च 1991 को बक्सर जिला बन गया

इस जिला गठन की लड़ाई लड़नेवाले उत्साही लोगों में करीब 18 प्रमुख लोग स्वर्ग सिधार चुके हैं, मगर उनकी यादें आज भी जीवंत हैं. जनवरी 1980 से अनवरत संघर्ष के बाद बक्सर 17 मार्च 1991 को आखिरकार जिला बन गया. 1980 से लेकर 1990 तक में बक्सरवासियों ने पांच बार बक्सर बंद कराया, जो अभूतपूर्व रहा और उससे सरकार की कुंभकर्णी निद्रा टूटी और वर्ष 1991 में अस्तित्व आया फिर बक्सर को जिला का दर्जा मिल गया.

पैराणिक कथाओं के साक्ष्य के अनुशार भगवान् वामन की जन्मस्थली तथा महर्षि विश्वामित्र की तपोभूमि के रूप में भी बक्सर विख्यात है, साथ ही माँ गंगा का नईहर, वीर बजरंगबली का ननिहाल, अहिल्या उद्धार भूमि, प्रभु श्री राम की शिक्षा स्थली इत्यादि देव स्थलों के रूप में भी विश्वविख्यात है.

[metaslider id=2268 cssclass=””]

1764 ई. बक्सर का युद्ध विश्वविख्यात है

आधुनिक युग मे बक्सर में ऐतिहासिक लड़ाइयां भी हुई है, जिसमे मुगल सम्राट हुमायूं और सासाराम का जमीदार शेरशाह के बीच 1539 ई. चौसा का युद्ध हुआ जिसमें शेरशाह विजयी हुआ. 1764 ई. बक्सर का युद्ध विश्वविख्यात है,

अंग्रेजों तथा भारत के तीन राजाओं के साथ युद्ध हुआ , जिसमे अग्रेंजो के सेनापति हेक्टर मुनरों ने अवध के नवाब सुजाउ दौला, मुगल बादशाह शाहआलम द्वितीय, बंगाल के नवाब मीर कासिम को बुरी तरह से परस्त कर सम्पूर्ण भारत को गुलाम बना लिया था. लड़ाई के बाद कई बड़े इलाकों पर अंग्रेजी वर्चस्व स्थापित हो गया था. आज भी यह स्थान उसी लड़ाई की याद दिलाता है.

इस धरती पर अनेको संत जन्म लिये

सतयुग से लेकर अबतक, बक्सर की धरती पर अनेको संत, महात्मा , ऋषिमुनियों, ने इस बक्सर की धरती पर जन्म लिया जिसमे मुख्यतः आधुनिक काल में महर्षि खांकि बाबा सरकार, त्रिदंडी स्वामी जी महाराज , नारायण दास भक्तमाली(मामा जी) महाराज, श्री जीयर स्वामी जी महाराज,श्री रामचरित्र दास जी महाराज (महात्माजी) इत्यादि विद्वान लोगों ने इस बक्सर की धरती पर जन्म लिये.

बक्सर पूर्वी उत्तर प्रदेश सीमा के किनारे भारत के पूर्वी राज्य बिहार का एक ऐतिहासिक शहर है जो प्रसिद्ध बक्सर की लड़ाई और चौसा की लड़ाई के लिए जाना जाता है.

30 वां स्थापना दिवस पर बक्सर अपटूडेट न्यूज के पाठकों सहित जिले के तमाम लोगो को हार्दिक बधाई तथा शुभकामनाएं.

इसे भी पढ़े :——————————

BUXAR UPTO DATE NEWS APP

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Insatall APP
live TV
Search
facebook