मानवता शर्मसार : जख्म पर मरहम पट्टी ना लगाकर, लगा रहे फिनाइल, वीडियो वायरल

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- अज्ञात ट्रेन से गिरकर जख्मी युवक को पुलिस के द्वारा डुमरांव अनुमंडल अस्पताल में पिछले पांच दिन पूर्व इलाज के लिए भर्ती कराया था। इलाज के अभाव में जख्मी व्यक्ति तड़प रहा है। कोई अस्पताल का डॉक्टर या कर्मचारी पूछने वाला नही मिला।

new abloom services buxar
विज्ञापन

दुर्घटना में उसे हाथ, बांह और पांव के अलावा शरीर के अन्य हिस्सों में भी गहरे जख्म आये थे। जख्म अधिक दिन होने के कारण उससे दुर्गंध भी आने लगा था। दुर्गंध आने पर अस्पताल के चिकित्सा कर्मियों के द्वारा उसके शरीर पर लिक्विड डाल दिया गया। जिसका वीडियो सोशल मिडिया पर वायरल हो गया| जिसमें दावा किया गया कि फिनाइल डाला जा रहा है। हालांकि डॉक्टरों का कहना है कि उसके जख्म पर बेटाडीन लिक्विड घाव भरने की दवा डाला गया है।

ऐसा करके भले ही दुर्गंध से मुक्ति पा ली गई हो लेकिन, अस्पताल की व्यवस्था पर सवाल उठना लाजमी है। जब यहां के सांसद अश्विनी कुमार चौबे केंद्र में स्वास्थ्य राज्य मंत्री और सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय बक्सर के प्रभारी मंत्री हैं।

समाजसेवी और पुलिस के मदद से कराया गया था अस्पताल में भर्ती

बताया जा रहा है कि पांच दिन पूर्व ट्रेन से गिरकर घायल एक व्यक्ति को समाजसेवी राजीव सिंह के डुमराँव पुलिस की मदद से अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी भाषा से ऐसा लग रहा था कि वह पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। जबकि उसके पास से ऐसा कोई पहचान अथवा प्रमाण पत्र नहीं मिला। जिससे कि यह ज्ञात हो सके कि वह कहां का रहने वाला है। घायल को अस्पताल पहुंचाकर डुमराँव पुलिस ने अपने कर्तव्यों की इतिश्री तो कर ली। जबकि होना तो यह चाहिए था कि उसका इलाज सही ढंग से करने के बाद उसके परिजनों से मिलवाया जाता।

सिविल सर्जन डॉ. जितेंद्र नाथ ने बताया कि यह बेहद गंभीर मामला है। ऐसा करने वाले स्वास्थ्य कर्मी पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही साथ अनुमंडल अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से भी शोकॉज़ किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button