बिना मास्क के दुकान चलाने पर किया जा रहा सील, तो कर्मचारियों पर क्यों मेहरबान है प्रशासन

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ /चौसा:- कोरोना से बचने के लिए लोग वैक्सीन लगवाने के लिए टीकाकरण केंद्र पर पहुंच रहे हैं, लेकिन वैक्सीन की किल्लत होने के कारण यहां पर उमड़ रही भीड़ ही चिंता बढ़ाने का काम कर रही है। इन दिनों हालांकि कोरोना वायरस की दूसरी लहर कुछ हद तक कमोर पड़ी है। वैक्सिनेशन का अभियान भी जारी है। लेकिन लोगों की और कर्मचारियों की लापरवाही एक बार फिर कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंता बढ़ा रही है।

new abloom services buxar
विज्ञापन

कोरोना से बचने के लिए लोग वैक्सीन लगवाने के लिए टीकाकरण केंद्र पर पहुंच रहे हैं। वैक्सीन की किल्लत होने के कारण केंद्रों पर उमड़ रही भीड़ ही चिंता बढ़ाने का काम कर रही है। शहर में हो या ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोग टीकाकरण केंद्र पहुंच रहे हैं। वैक्सिनेशन सेंटर पर लोगों की भीड़ इतनी ज्यादा हो गई कि कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन हो रहा है। ऐसे में सबसे बड़ी चिंता की बात यही है कि कहीं वैक्सीनेशन सेंटर्स पर उमड़ रही भीड़ ही बड़ी समस्या का कारण ना बन जाए।

वैक्सीन के डोज कम, लोग ज्यादाः

सोमवार को चौसा प्रखंड के एम एस ख़िलाफ़तपुर में नजारा सामने आया, जहां लोग बड़ी संख्या में टीका लगवाने के लिए पहुंचे। केंद्रों पर जब लोगों की भीड़ जुटी तो शारीरिक दूरी के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ीं। बड़ी बात यह रही है लोग रजिस्टर नाम दर्ज करने वाले कर्मचारी बिना मास्क के ही दिखे। ऐसे में प्रश्न यह खड़ा होता है कि जब टीकाकरण करने वाले कर्मचारी ही कोरोना फैलाने की कश्मे खा चुके है तब तो तीसरी लहर कौन रोक सकता है। जब उस कर्मचारी से बात किया गया तब अपना नाम नितिन कुमार राय बताया।

अब देखना यह होगा कि आगे इन पर करवाई होती है या नही। क्योंकि अगर बिना मास्क पहने दुकान चला रहे हैं तो 24 घण्टे के लिए दुकान शील हो जा रहा है। ये तो टीकाकरण केंद्र पर खुलेआम कोरोना वायरस फैसलाने का काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button