“पोषण महाअभियान सह वृक्षारोपण” जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :-  “भारत अमृत महोत्सव” कार्यक्रम श्रृखंला अन्तर्गत कृषि विज्ञान केन्द्र बक्सर द्वारा “पोषण महाअभियान सह वृक्षारोपण” जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। लाइव टेलिकास्ट के माध्यम से भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कदन्न फसलों का शोध संस्थान, हैदराबाद द्वारा मनाये जा रहे मिलेट्स प्रदर्शनी व गोष्ठी कार्यक्रम को दिखाया गया।

med bed buxar copy
विज्ञापन

इस कार्यक्रम मे कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने किसानों, कृषक, महिलाओं, स्कूली छात्र-छात्राओं तथा वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए बताया कि वर्ष 2023 को अर्न्तराष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष घोषित किया गया है, जिसके अन्तर्गत मोटे अनाजों की खेती को बढ़ावा दिया जायेगा तथा इसमे उपलब्ध पोषक तत्वों एवं उनसे होनेवाले लाभ के बारे में लोगों को जागरूक भी किया जायेगा।

केवीके में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि माया देवी, अध्यक्ष (नगर परिषद) एवं कार्यक्रम में उपस्थित जीविका दीदी, आँगनवाड़ी सेविका, डी0ए0वी0 तथा फाउन्डेशन स्कूल की छात्राओं एवं अध्यापक एवं अध्यापिकाएं, कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रभारी कार्यक्रम समन्वयक व अन्य कर्मचारियों तथा इफको के प्रतिनिधि द्वारा परिसर में पपीता, अमरूद, सहजन, निंबु के पौधों का वृक्षारोपण करके किया गया।

किया गया 210 पौधे वितरित

कार्यक्रम में उपस्थित सभी छात्राओं को पपीता के पौधें तथा महिला किसानों को पपीता, अमरूद, सहजन, निंबू, आदि के 210 पौधे वितरित किय गये। इसके अतिरिक्त पोषण वाटिका के निर्माण तथा बढ़ावा देने के लिए सब्जी कीट के 100 पैकेट भी महिला किसानों के बीच वितरित किया गया।केन्द्र प्रभारी प्रमुख हरिगोबिंद ने कार्यक्रम के माध्यम से कदन्न फसलों के उपयोग तथा लाभ के बारे में जानकारी दी।

उन्होने कहा कि पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए हम सभी को मिलकर वृक्षारोपण को बढ़ावा देने की जरूरत है।इफको प्रतिनिधि अभय कुमार मिश्र ने बताया कि आज भी देश मे बहुत सारे छोटे बच्चे व गर्भवती महिलायें सही पोषण न मिलने के कारण कुपोषण का शिकार हो जाते है। अगर सही तरीके से उनको पोषण की जानकारी दी जाये तो कुपोषण की समस्या को कम किया जा सकता है। जीविका से आये संजय कुमार ने वृक्षारोपण करने तथा पर्यावरण में इसके महत्व पर जानकारी दी।

कार्यक्रम मे तकनीकी सत्र का आयोजन किया गया ,जिसमें “बेहतर स्वास्थ्य के आवश्यक पोषण” विषय पर डॉ0 मान्धाता सिंह, “कदन्न फसलों का पोषण में महत्व” विषय पर श्री हरिगोबिंद, “सहजन का पोषण मे महत्व” विषय पर डॉ0 देवकरन तथा “वृक्षारोपण का कृषि एवं पर्यावरण मे महत्व” विषय पर श्री रामकेवल ने प्रतिभागियों को तकनीकी जानकारी दी।कार्यक्रम मे कदन्न फसलों का पोषण में महत्व को समझाने के लिए आये हुए प्रतिभागियों एवं अतिथियों के लिए बाजरे से बने विशेष प्रकार के लड्डू व बिस्किट को अल्पहार मे सम्मिलित किया गया।

कार्यक्रम मे कुल 190 प्रतिभागियों ने भाग लिया, जिसमें ख्याति, पायल, अंशु, प्रकति, किमी, वर्षा, अनुष्का, प्रतिभा, आदि छात्राओं समेत महिला कृषक प्रमिला देवी, उषा देवी, पूनम देवी, प्रभावती, ललिता, रीता, पुष्पा सहित अन्य उपस्थित थे तथा केन्द्र के आरिफ परवेज, अफरोज सुल्तान, रवि चटर्जी, राजेश कुमार, सरफराज खान, अरविंद, संदीप आदि ने सहयोग किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button