दुसरे दिन शिव विवाह लीला एवं कृष्ण जन्म का हुआ मंचन

bjp buxar
विज्ञापन

दुसरे दिन शिव विवाह लीला एवं कृष्ण जन्म का हुआ मंचन

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- श्री रामलीला समिति बक्सर के तत्वधान में बक्सर नगर के रामलीला मैदान में चल रहे 20 दिवसीय विजया दशमी महोत्सव 2019 के दूसरे दिन सोमवार को रात्रि रामलीला प्रसंग के दौरान श्री गोविंद गोपाल लीला संस्थान के स्वामी श्री कन्हैया लाल शर्मा एवं विष्णु दत्तात्रेय के सफल निर्देशन में श्री शिव विवाह लीला का सफल मंचन किया गया।

जिनमें दिखाया गया कि हिमाचल महाराज के यहां सती, पार्वती रूप में प्रकट हुई।वही नारद जी उनका हस्तरेखा देखकर सारा वेदांत सुनाते हैं और भोलेनाथ को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए वन में जाकर तपस्या करने को कहते हैं। इधर पार्वती वन में जाकर घोर तपस्या करने लगती है। इनकी घोर तपस्या से प्रसन्न होकर समस्त देवता भोलेनाथ के पास जाकर विनती करते हैं कि जो सती राजा दक्ष के यज्ञ में जलकर भस्म हो गई थी वह राजा हिमाचल के यहां पार्वती के रूप में प्रकट हुई है।

आप चल करके उनसे विवाह कर लीजिए।लेकिन भगवान भोलेनाथ समाधि में बैठ जाते हैं ।इसी दौरान कामदेव उनके तपस्या भंग करने आता है वह भगवान विष्णु और ब्रह्मा जी भोलेनाथ से विनती करते हैं तब भोलेनाथ हिमाचल महाराज के यहां दूल्हे रूप में पहुंचते हैं वह मां पार्वती और भोलेनाथ का विवाह होता है। कन्यादान होता है। समस्त नगर वासी कन्यादान देखने के लिए आते हैं।

दुसरे दिन श्री कृष्ण जन्म का हुआ मंचन

वही प्रातः काल के श्री कृष्ण लीला के दौरान श्री कृष्ण जन्म का मंचन दिखाया गया। जिसमे दिखाया गया कि कंस अपनी बहन देवकी की शादी बासुदेव जी से करता है। जब वह विदा करने के लिए जाता है तो अचानक भविष्यवाणी होती है कि देवकी का अष्टम लाल, होगा तेरा काल। इसके बाद कंस बहन देवकी व बांसुदेव को जेल में बंद कर देता है। जब भी देवकी को बच्चा जन्म लेता है तो उसे कंस मार देता है। आठवें बच्चे का जब जन्म लेने का समय होता है तो सभी पहरेदार सो जाते हैं और हथकड़ी खुल जाती है। इसके बाद देवकी को आठवें पुत्र के रुप में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म होता है। बासुदेव जी उन्हें एक टोकरी में रखकर नंद जी के गांव के लिए चल देते हैं।

कार्यक्रम के दौरान बैकुंठ नाथ शर्मा ,रामावतार पांडे, सकेत शर्मा अदित्य समते कई लोग उपस्थित थे।

इसे भी पढ़े :——-

buxar upto date news

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button