तबीयत खराब होने पर पहुंचे थे अस्पताल, नहीं खुला गेट, वृद्ध की चली गई जान

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- इस कलयुग में डॉक्टरो को भगवान का दर्जा दिया गया है| लेकिन जिला का ऐसा मामला सामने आया है जिसको लेकर डॉक्टरो पर प्रश्न खड़ा कर दिया है| मामला है जिला के केसठ पीएचसी का| बताया जा रहा है की रोगी के पहुचनें पर स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा गेट नही खोले जाने के कारण वृद्ध की मौत हो गयी।

med bed buxar copy
विज्ञापन

जिससे ग्रामीणों में काफी आक्रोश देखा गया।वही इसकी सूचना पर जिला के सीएस द्वारा मामले की जांच कर करवाई करने की बात कही गई है।वही पीएचसी प्रभारी द्वारा कुछ भी अस्पष्ट कहने से बच रहे है। बताया गया कि इमरजेंसी सेवा के लिये सभी सरकारी अस्पताल 24 घण्टे खोलने के आदेश है।इसके बावजूद भी सभी स्वास्थ्य कर्मीयो द्वारा इसकी अवहेलना की गई है।इनकी लापरवाही  से एक व्यक्ति की जान चली गयी।

घटना सोमवार की रात करीब दो तीन बजे की है।जब मंगलावर की सुबह इस घटना की जनकारी हुई तो ग्रामीण उच्चाधिकारियों से इसकी शिकायत कर करवाई की मांग की गई है।बता दे कि केसठ गांव निवासी मिथलेश सिंह( 58 वर्ष) पिता स्वर्गीय तेज नरायण की रात अचानक तबियत खराब हो गयी।जिसपर परिजनों द्वारा उन्हें जल्दबाजी में केसठ पीएचसी लेकर पहुंचा गया।लेकिन रात ज्यादा होने के कारण सभी हॉस्पिटल कर्मी सोने के कारण हॉस्पिटल का दरवाजा नही खोल पाये।परिजनों द्वारा दरवाजा खुलवाने का काफी प्रयास किया गया।उसके रोगी को लेकर अपने गांव की तरफ किसी निजी डॉकटर की तरफ रुख किये तभी रास्ते मे ही वृद्ध ने दम तोड़ दिया।

मृतिक की पत्नी इंदू देवी का रो रो कर बुरा हाल

इसकी जनकारी ग्रामीणों को मंगलवार की सुबह हुई जिसको लेकर ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।गांव के वार्ड सदस्य शंकर यादव द्वारा बताया गया कि साथ मे हम भी गये थे हमने बताया भी की हम वार्ड सदस्य है गेट खोलिए लेकिन नही खोला गया। मृतिक की पत्नी इंदू देवी का रो रो कर बुरा हाल है।बताया गया कि मिथलेश सिंह अपने पीछे दो पुत्र व एक पुत्री को छोड़ गए है।जिसमे पुत्री की शादी हो चुकी है।जिसमे बड़ा पुत्र का नाम विवेक कुमार,छोटा पुत्र समीर है,वहीं पुत्री निधि कुमारी है।ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि इतने परिवारों को भरण पोषण करने वाले मिथलेश ही थे।घर का सहारा खो जाने से ग्रामीणों ने इनके भरण पोषण को ले चिंतित दिखाई दिए।

वहीं इस सम्बंध में जब बक्सर सिविल सर्जन भूपेंद्र नाथ से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की जनकारी नही है।लेकिन ग्रामीण शांति बनाये रखे जांच कर दोषियों पर उचित करवाई की जाएगी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button