श्मशान घाट चौसा पर नहीं है लाइट की व्यवस्था, गंदगी भी अपने चरम पर

बक्सर अप टू डेट न्यूज़/वीरेंद्र पाण्डेय :- श्मशान घाट चौसा पर प्रकाश की व्यवस्था नहीं है। जिससे दाह संस्कार करने वाले व्यक्तियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। श्मशान घाट चौसा पर बुनियादी सुविधाएं को बहाल हेतु समाजसेवी एवं राजनीतिक कार्यकर्ताओं द्वारा क‌ई आवेदन जिला प्रशासन सहित स्थानीय प्रशासन को भी दिया जा चुका है। लेकिन अभी तक बुनियादी सुविधाएं नहीं बहाल की गई है। student lone buxar

श्मशान घाट चौसा पर दिन में दाह संस्कार करने वाले को ज्यादा परेशानी नहीं होती है। लेकिन रात में दाह संस्कार करने वाले को घुप अंधेरे में दाह संस्कार करने पर भयानक एवं डरावनी स्थिति बन जाती है। वैसे श्मशान जैसे स्थानों पर प्रेत आत्माओं एवं चुड़ैल जैसे अदृश्य आत्मा भटकती रहती है।जो अंधेरे में और भी सक्रिय हो जाती है।

अंधेरे में दाह संस्कार करने में कठिनाई के साथ भयावता की स्थिति

दो तीन दिन पूर्व वरिष्ठ भाजपा नेता विजेंद्र कुमार चौबे अपने बड़े भाई देवेन्द्र नाथ चौबे के असामयिक मृत्यु होने पर रात के लगभग नौ से दस के बीच दाह संस्कार करने हेतु श्मशान घाट चौसा पर पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि मृतक के साथ अंधेरे में दाह संस्कार करने में कठिनाई के साथ भयावता का अनुभव हो रहा था। यदि प्रकाश की व्यवस्था रहती तो भय का अनुभव भी नहीं होता एवं दाह संस्कार करने में मदद भी मिलती।

डुमडेरवा में दाह संस्कार कराने वाले डोम लोगों ने बताया कि अंधेरे में हम लोग भी भय के कारण सिहर जाते हैं। लेकिन मृतक के साथ व्यक्तियों के रहने से साहस मिलता है।ऐसा रात में ही होता है। यदि प्रकाश की व्यवस्था कर दिया जाए तो ऐसी स्थिति नहीं होगी।इस वैश्विक महामारी में यह आवश्यक है क्योंकि इसमें ज्यादा मौतें होने का घटना हो रहा है। साथ ही श्मशान घाट चौसा पर गंदगी भी चारों तरफ फैला हुआ है।दाह संस्कार उपरांत मृतक के कपड़े एवं हरे एवं अधजले लकड़ियां अजीब तरह की गंध पैदा करती है।

कुछ व्यक्तियों द्वारा मृतक को सीधे कुछ कर्मकांड उपरांत जल प्रवाह भी कर दिया जाता है,इस स्थिति में वहां पर दुर्गंधयुक्त वातावरण हो जाता है।जल प्रवाह को रोका नहीं जा सकता है, लेकिन घाट किनारे सफाई व्यवस्था तो की जा सकती हैं।ताकि वातावरण एवं जल कम से कम प्रदूषित हो। अतः जिला प्रशासन से मांग की जाती है कि हिन्दू मोक्ष स्थान श्मशान घाट पर प्रकाश एवं सफाई व्यवस्था की जाए।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button