कोरोना, करोना, किरौना और राजनीति

ads buxar

कोरोना की भारत में दस्तक लगभग दो महीने से ऊपर हो गयी हैं। विश्व में इसका प्रभाव देख ही रहें हैं खबर पढ ही रहें हैं चाहे चीन हो या पाकिस्तान, फ्रांस, इटली हो या अमेरिका। पर यहा किरौना और राजनीति की तरह हल्ला सा मच गया है|

कोरोना, करोना, किरौना और राजनीति

बक्सर अप टू डेट न्यूज़/अंकित दिवेदी:- नमस्कार प्रिय पाठकों आशा करते हैं आप सभी कुशल मंगल होंगे। जरूरत भी हैं हम सजग सतर्क व जागरूक रहें। घर पर बैठे बैठे इस समय सभी लोग खुश हो या न न हो, निश्चिंत हो या न हो पर थकान से दूर हैं, घर परिवार के खुशियों के करीब हैं, बच्चों के साथ खेल कूद रहें हैं, मौज मस्ती कर रहें हैं। सुनिए ना इतना हाइपर न होइए, इतना परेशान न होइए, काहे गुस्सा रहें हैं। रूकिए, संभालिए, सोचिए फिर कुछ करिए। यह समय यूँ ही कुछ कह व कर देने का समय नहीं हैं सोच समझ कर करने का समय हैं।

खैर कोरोना की भारत में दस्तक लगभग दो महीने से ऊपर हो गयी हैं। विश्व में इसका प्रभाव देख ही रहें हैं खबर पढ ही रहें हैं चाहे चीन हो या पाकिस्तान, फ्रांस, इटली हो या अमेरिका। इन देशों में इनका क्या प्रभाव पड़ा हैं, क्यों पड़ा हैं, कैसे पड़ा हैं कभी सोचे हैं, चिंतन किए हैं नहीं न। सोचिए ना एकबार या बस परेशान ही हो रहें हैं। या बैठे बैठे पर सवाल ही आ रहें हैं कि PPE, माॅस्क, वेंटिलेटर, सैनिटाइजर कहाँ हैं। घर में बैठ के पूरा भडास निकालने का अच्छा मौका हैं, लोग पढ़ सुन भी रहें हैं, देख भी रहें हैं, ट्राॅल भी हो रहा, आपकी गलत व भ्रामक चीज लोगों तक पहुँच रही हैं, लोग परेशान हो रहें हैं, आपाधापी मच रही हैं कहिए ना जी कि सब सरकार का करा धरा हैं।

गरीब मजदूर किसान कामगार परेशान हैं कबो सोचे हैं

आनंद बिहार हो या बंगाल, उत्तर प्रदेश हो या महाराष्ट्र काहे सब गरीब मजदूर किसान कामगार परेशान हैं कबो सोचे हैं या बस सरकार सरकार चिल्लाएँगे। हमारा भी कोई कर्तव्य हैं कि नहीं आप खुद बताइए, लेकिन उसके लिए सोचना पड़ेगा क्योंकि सोचते समझते तो ए जमात, जरकत की हरकत नहीं होती। जो होह हल्ला मचाए हैं यह नहीं होता, जो लोग डाॅक्टर, पुलिस पर हमला कर रहें यह नहीं होता।

लेकिन क्या हो पापी पेट हैं साहब, भूख हैं क्या करें, आज बड़ा आपको दिखने लगा। लाॅकडाउन होने पर भी आप चिल्ला रहें थे लेकिन आज परिणाम आपके सामने हैं, जिस तरीके से भारत की स्वास्थ्य में रैंकिंग हैं या जो बचाव हमने किया हैं और अभी तक जो केसेस आए हैं वह सुखद हैं हालाँकि जाँच हो तो और पता चले। पर फिर भी हम सफलता की ओर हैं हमें सहयोग करने की जरूरत हैं, सरकार को मजबूती देने की जरूरत हैं कि वह और कठोर कदम उठाए तो भी साथ हैं।

हर जगह शाहीनबाग की तरह आनंद बिहार हो।

विपक्ष हो समाज सबका सहयोग मिल रहा पर विरोध के आड में कुछ लोग अभी भी नहीं संभल रहें, जिन्होंने ने ताली, थाली की खूब मजाक उडायी जिसकी उलाहना आपने की उसकी सराहना वैश्विक स्तर पर हुई, अभी आपको दिया, लालटेन जलाना हैं आप परेशान हैं। आप लोगों को तमाम प्रकार के नैरेटिव गढ़ रहें हैं। सुनिए जो आप लोगों को यह कहकर बता रहें न कि करिए कोरोना भाग जाएगा यह किसने कहा हैं, इसका प्रचार प्रसार आप करते हैं, जिससे लोग आक्रोशित हो, लोग परेशान हो, हर जगह शाहीनबाग की तरह आनंद बिहार हो। पर हमे एकजुटता की जरूरत हैं एक साथ होने की जरूरत हैं और यह ताली थाली दिया उसी का प्रतीक हैं।

इस विषम परिस्थिति में देश के साथ धर्म

मौते रोज होती थी, इससे भी ज्यादा मौते थी, भूख से लोग रोज मरते थे पर आपके पास वक्त नहीं था सोचने व देखने तक का। आप सही हैं भूख से परेशान हैं लोग पर करना तो हमें ही हैं, सरकार हो या सत्ता हमही से तो हैं। आज गरीब जिसे भोजन नहीं मिलता था, जो भीख माँग कर खाता था, आज वह नहीं माँग रहा पर भोजन मिल रहा, ऐसे कई लोग हैं जो पहले से बेहतर हैं। इसके कारण हम आप हैं हमारी सरकार सोच हैं। आइए इस विषम परिस्थिति में देश के साथ धर्म, जाति, जमात और हाँ विशेषकर पार्टी की राजनीति छोड़ कर और यह सत्ता व विपक्ष दोनो पर लागू होता हैं।

गाँव के लोग और जागरूक रहें, सामाजिक दूरी का ख्याल रहें, गाँव में कुछ लोग जो अभी भी इसे दरकिनार कर पार्टी, खेलकूद कर रहें हैं कुछ दिनों के लिए आप सब बंद रखें व राष्ट्र के लिए अपना सहयोग दे। क्योंकि भारत गाँवों का देश हैं उसे बचाने लिए ही यह सब फैसले लिए जा रहें क्योंकि सुविधा व संसाधनों की कमी हैं जिसका विकल्प यहीं हैं।

आशा हैं रामायण, महाभारत, संस्कृति, सनातन को गलियाने से अच्छा अपने बच्चों में आदर्श स्थापित करेंगे और रात नौ बजे नौ मिनट दीया जलाएँगे, कोरोना भगाने के लिए नहीं निराशा भगाने के लिए, देश को जिताने के लिए, हमारे प्रहरियों के सम्मान के लिए।।

(यदि आप भी लेख, कबिता लिखने में माहिर है तो आप हमे admin@buxaruptodate.com पर फोटो के साथ मेल कर सकते है)

इसे भी पढ़े :—————————–

BUXAR UPTO DATE NEWS APP

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button