शहर के सभी छठ घाटों का पदाधिकारियों ने किया निरीक्षण, होंगे लाईटिंग की व्यवस्था

बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- बिहार सरकार छठ पर्व, 2021 के अवसर पर पदाधिकारियों के दल द्वारा शहर के सभी घाटो पर सरकारी मोटर बोट से भ्रमण और निरीक्षण किया गया|

med bed buxar copy
विज्ञापन

जिला पदाधिकारी अमन समीर के निदेशानुसार आगामी छठ पर्व के निमित्त बक्सर के निम्नांकित घाटों निरीक्षण सरकारी मोटर बोट से का शहर अघोहस्ताक्षरी अनुमण्डल पदाधिकारी, बक्सर सदर एवं कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद्, बक्सर द्वारा संयुक्त रूप से किया गया| जिनमे जेल घाट (सिपाही घाट), सुमेश्वर स्थान घाट, बक्सर, गायत्री घाट, फुआ घाटा, लक्ष्मीनारायण घाट एवं जमुना घाट, बक्सर, नाथ बाबा घाट, किला घाट (नाथ घाट से पूरब ), रामरेखा घाट, बक्सर, जहाज घाट, बक्सर, बंगला घाट एवं सूर्य मंदिर घाट, बक्सर, सती घाट (कचहरी घाट), गोला घाट, बक्सर, सिद्धनाथ घाट, जज घाट, बक्सर (राजा घाट), अम्बेडकर घाट (मठिया मुहल्ला घाट), बुधनपुरवा घाट, शिवाला घाट के निरीक्षण के क्रम में यह बात सामने आई कि गत वर्ष की तुलना में गंगा नदी में जलस्तर काफी बढ़ा हुआ है।

भीड़-भाड़ वाले घाटों पर की जाएगी मजबूत बैरिकेडिंग

उक्त घाटों के निरीक्षण के कम में यह देखा गया कि सभी घाटों के किनारे से 4-5 फीट अन्दर जाते ही पानी की गहराई अचानक काफी बढ़ जाती है जो अलग-अलग स्थानों पर 15-20 फीट तक है। ऐसे में सभी घाटों पर बैरिकेडिंग की गुणवत्ता को लेकर अत्याधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। विशेष रूप से अधिक भीड़-भाड़ वाले घाटों पर बेहद मजबूत बैरिकेडिंग की जानी आवश्यक है।

कुछ घाट ऐसे हैं जहाँ ज्यादा गहराई है। कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद्, बक्सर एवं सहायक अभियंता, अवन प्रमण्डल बक्सर को निदेश दिया गया कि ऐसे घाटों को विशेष रूप से बैरिकेडिंग करायेंगे एवं सभी घाटों पर साफ-सफाई, लाईटिंग की व्यवस्था अच्छे ढंग से करायेंगे।

साथ ही खतरनाक घाटों को चिन्हित कर खतरनाक घाट घोषित करते हुए श्रद्धालुओं को उसपर पूजा करने से रोकने हेतु घाट के जाने वाले रास्तों पर अच्छी तरह से बैरिकेडिंग कराने का निदेश दिया गया। अधोहस्ताक्षरी द्वारा यह निदेश दिया गया कि दीपावली पर्व के पश्चात् शीघ्र ही पुनः सभी घाटों का निरीक्षण करके ही वैरिकेडिंग कराया जाय ताकि जलस्तर के बढ़ने-पटने की प्रवृति का अंदाजा लगाया जा सके। साथ ही उनके द्वारा निर्देशित किया गया कि बक्सर शहर के सभी घाट ऐतिहासिक घाट है। इसलिए उन पाटों के नाम का साईनेज बोर्ड बनवाकर घाट पर जाने वाले रास्ते मुख्य रोड पर इस तरह लगवाया जाय कि वे आसानी से सभी को दिखाई दे सके।

छठ पर्व शुद्धता एवं आस्था का पर्व

कोरोना महामारी के प्रभाव के उपरान्त चूँकि यह पहला छठ पर्व है। अतः बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के घाटों पर आगमन की संभावना है। ऐसे में घाटों पर वाँच टॉवर बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया गया ताकि घाटों की अच्छी तरह से निगरानी हो सक

भ्रमण के क्रम में यह देखा गया कि गंगा नदी में कुछ पशुओं के शव तैर रहे है। कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद्, बक्सर को निदेश दिया गया कि वे तत्काल उक्त शर्वो के निस्तारण की व्यवस्था करेंगे क्योंकि छठ पर्व शुद्धता एवं आस्था का पर्व है।

कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद् बक्सर को निदेश दिया गया कि वे दीपावली पर्व के पश्चात् ही सभी घाटों पर बैरिकेडिंग का कार्य करवायें ताकि घाटों के आगे सही गहराई का पता चल सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button